इतिहास में अब तक कई लड़ाइयां लड़ी गई हैं, जिसमें विश्व युद्ध जैसी 'महा लड़ाई' भी शामिल है। वैसे तो लगभग हर लड़ाई सत्ता के लिए या राज्य के विस्तार के लिए ही होती है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी विचित्र लड़ाई के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका कारण जान कर आप सोच में पड़ जाएंगे। ये लड़ाई यूरोप के उन दो देशों के बीच लड़ी गई थी, जो हैं तो बहुत छोटे, लेकिन उनका इतिहास काफी पुराना और रोचक रहा है।
बात 1925 की है। उन दिनों ग्रीस (यूनान) और बुल्गारिया के बीच काफी तनातनी चल रही थी और इन्ही दो देशों के बीच एक कुत्ते की वजह से युद्ध हुआ था। जी हां, कुत्ते के कारण दोनों देश आपस में भिड़ गए थे। दरअसल, हुआ कुछ यूं कि ग्रीस का एक कुत्ता गलती से मैसेडोनिया की सीमा को पार कर गया। अब उस कुत्ते को पकड़ने के लिए उसका मालिक (जो ग्रीस की सेना में एक सिपाही था) भी मैसेडोनिया की सीमा में प्रवेश कर दिया। उस समय मैसेडोनिया की सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी बुल्गारिया के सैनिकों पर थी। जब बुल्गारिया के सैनिकों ने देखा कि ग्रीस का एक सैनिक उनकी सीमा में प्रवेश कर गया है तो उन्होंने बिना कुछ सोचे-समझे तुरंत उसे गोली मार दी। इस  घटना का परिणाम ये हुआ कि दोनों देशों के बीच का राजनीतिक तनाव और बढ़ गया और अपने सैनिक की हत्या से नाराज ग्रीस ने बुल्गारिया पर हमला कर दिया। ग्रीस और बुल्गारिया के बीच यह लड़ाई 18 अक्तूबर से 23 अक्तूबर के बीच लड़ी गई थी। इस युद्ध में करीब 50 लोग मारे गए थे। यह युद्ध बुल्गारिया जीत गया, लेकिन बाद में दोनों देशों के बीच एक संधि हुई, जिसमें यह तय हुआ कि युद्ध में बुल्गारिया को जितना नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई ग्रीस करेगा। आखिरकार ग्रीस ने हर्जाने के तौर पर बुल्गारिया को 45 हजार पाउंड यानी अभी के हिसाब से करीब 43 लाख रुपये का भुगतान किया।इस लड़ाई को 'पेट्रीक की घटना' के तौर पर जाना जाता है। एक कुत्ते की वजह से दो देशों के बीच लड़ाई और जान-माल की भारी क्षति मुर्खतापूर्ण लड़ाई तो लगती है, लेकिन यह अपने आप में बेहद ही अलग किस्म की और रोचक लड़ाई थी, जो शायद ही कभी भविष्य में दोहराया जाए।     - अमर उजाला

Post a Comment

Previous Post Next Post